सोमवार, 26 अक्तूबर 2009

झील पर तीन कवितायें jheel par teen kavitayen

झील -1
झील और मैं

ओ झील तुम वह नहीं रहीं
जो थीं मेरी आंखों में कभी
मैं तुम्हारे किनारों पर
न जाने किसका इंतजार करता था
तुम्हारा प्यार लिए हुए

शायद मैं भी बदल गया हूं
मेरे रिश्ते तुमसे टूट गए
मैं क्या था तुम्हारे सामने
मैं क्या हूं तुम्हारे सामने
शहर की तरह तुम्हारी लहरों को
ग्रसता हुआ एक धुंआ




झील -2

झील और सुंदरता

ओ झील तुम शहर की सुंदरता थीं
तुम्हारी लहरें तुम्हारे लहराते बाल
तुम थीं लहराती
तुम थीं वक्त की दोस्त
तुमने ओड़ी थी हरियाली की चुनर
तुम्हारे किनारों पर थी फुलकारी गोट

अब मैं गवाह हूं
एक शहर की सबसे बड़ी त्रासदी का
मेरा दुख है मेरे आंसुओं से
तुम्हारे किनारों पर कुछ पैदा नहीं होता















झील -3

ओ मेरी झील


ओ मेरी झील
मैं वक्त के साथ घूमता रहा
दुनिया की हसीन वादियों में और तुम
उदास होती गर्इं भोपाल में रहते रहते

तुम सिकुड़ती गर्इं संकोच में
मैंने एक शहर बन कर
तुम्हारे आंचल में घर बनाया
अपनी छत से तुम्हे सूखते देखा
तुम्हें उदास होते देखा

ओ झील लहराओ
तुम्हारे लहराने से लहराएगा मेरा शहर
लहराएंगे पंक्षी लहराएंगे पार्क
ओ झील अपने किनारों
मेरे और मेरे शहर के अपराध माफ करना

मैं तुम्हारे किनारों का साथी हूं
मैं तुम्हारा कवि हूं



रवीन्द्र स्वप्निल प्रजापति

2 टिप्‍पणियां:

  1. पहली बधाई स्‍वीकारें. झीलों की नगरी जो अब सिर्फ राजधानी के नाम से जानी जाती है, वहां की झीलों पर चिंता जाहिर करती ये कविताएं है. पुनः बधाई.

    उत्तर देंहटाएं